Popular Posts

Friday, June 15, 2012

मेरे ख़्वाब

मेरे ख़्वाब मुझे इतना बता ...
क्यों है आजकल तेरा मन खोया खोया ? 
तेरे कूछ छन्द ही तो  मेरे पलकों के सिरहाने ,
कवारे सिलवटों के दर सजाते है। 

मुझसे ना तू अपनी मोतियों की नगरी छुपा ,
 देदे मुझको जरा एक आना दो आना ।

 मेरी जो रुबाईया है, वो भी तो अमानत हैं तेरी 
जरा सोच मेहर बनकर तू क्या पायेगी ।

मेरे नींद के कोरी कटोरियों में ,
  आज बरस जा तु निस्ब्द बनकर ।

 मेरे ख्वाब मुझेइतना बता ...

हैं अभी ख्वाबों के दीवारों दर कवारे ....
  ना   कर तू इस्तकबाल दरख्त ऐ आरजू का ,
 रहने दे मेरे ख्वाबों को थोरा और  बेताहसा ..

इन आँखों के रँगरेज से बच के कहा जायेगी ,
 बर्फीली घाटियों में भी ,मेरी  हथेलियों में तू सज जायेगी ।

आ अब वहां चले ...जहाँ हक़ीकत की  जमीं पे ......तू सरसों और मै कावेरी  बन जायुगी ....।।

5 comments:

  1. इन आँखों के रँगरेज से बच के कहा जायेगी ,
    बर्फीली घाटियों में भी ,मेरी हथेलियों में तू सज जायेगी ।
    Dil ko chhu gai...
    nice one
    thanks

    ReplyDelete
  2. चलिए... काफी दिनों के बाद आपने कुछ लिखा तो सही...

    नींद की कटोरियों में

    जो चाँद छुपा है

    वो एक निशब्द ख्वाब

    आपके आँगन में

    बेसुध है.....

    बंजारा है....

    आपने बहुत ही सुन्दर लिखा... थोड़ा शब्दों को सजा दीजिये....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव है....

    लिखते रहिये.....

    अनु

    ReplyDelete
  4. क्या कहने, बहुत सुंदर
    आपको पढना वाकई सुखद अनुभव है।

    ReplyDelete